Sunday, 16 April 2017

हम लोग झूठ क्यों बोलते हैं?

हम लोग झूठ क्यों बोलते हैं? हम लोग क्रूर और झूठे क्यों बनते चले जा रहे हैं? क्यों हम लोग दूसरो को नही समझना चाहते? क्यों हम लोग दूसरो के विचार क्यों नही समझना चाहते?  संसार में गलत चीजों का क्या निष्कर्ष निकलेगा?  संसार में हमारे इस तरह के व्यवहार का क्या निष्कर्ष निकलेगा?

आज के समय में अगर देखा जाए लगभग ज्यादा से ज्यादा लोग अपने फायदे के लिए दूसरों से झूठ बोलते हैं। विश्वास नाम की चीज़ पर से लोगों का विश्वास उठता चला जा रहा है। सोचने वाली बात यह है कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। आज के समय में इंसान एक दूरी से ज्यादा झूठ क्यों बोल रहा है।

हम लोग क्रूर और झूठे क्यों बनते चले जा रहे हैं?

विशेषज्ञों का मानना है कि जैसे-जैसे इंसान विकास के क्षेत्र में अपने पांव बढाता जाएगा। वैसे-वैसे इंसान क्रूर बनता जाएगा क्योकि इस कलयुग में बुराई अपनी पाँव बहुत तेज़ी से जमाती है। हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि आज के समय में इंसान अपने फेसबुक प्रोफाइल पर ज्यादा लाइक्स के लिए सेल्फी के चक्कर में अपनी जान तक गवां बैठा है। ऐसी झूठी शान के लिए व्यर्थ चिंता करना क्या ठीक है? अगर आप समाचार देखते होंगे तो आपको पता होगा आये दिन ऐसी घटना अक्सर न्यूज़ चैनल और अखबार में आ जाती है कि सेल्फी लेते हुए किसी मौत हो गयी।

क्यों हम लोग दूसरो के विचार क्यों नही समझना चाहते?

हर कोई अपनी बात दूसरों को सुनाना चाहता है। लेकिन कोई भी इंसान दूसरों की एक भी बात नहीं सुनना चाहता। सभी लोग यही चाहते हैं कि मेरी बात पर अमल किया जाए। बाकी दुनिया भाड़ में जाए। कुछ इस तरह की परिस्थिति उभर कर सामने आ रही है। जिसपर लगाम लगाना मुस्किल होता जा रहा है। अगर ऐसा ही चलता रहा तो न जाने आगे चलकर हमारा समाज और हम लोग कैसे बन जाएंगे।

संसार में हमारे इस तरह के व्यवहार का क्या निष्कर्ष निकलेगा?

सोचकर हंसी आती है की आज की टेक्नोलॉजी हजारों मील दूर बैठे इंसान को नजदीक तो कर देती है लेकिन करीबी लोगों को काफी दूर धकेल देती है। आज के समय में गांव में कोई नहीं रहना चाहता। जहां देखो वहां भागादौड़ी और मारामारी है। सब शहर की तरफ ही अपना उज्जवल भविष्य देखते हैं। आने वाला कल न जाने कैसा होगा सोच कर भी डर लगता है। आपको क्या लगता है। कृपया कमेंट बॉक्स में जरुर बताएं।


EmoticonEmoticon