Wednesday, 1 November 2017

क्या इंसान एलियंस की प्रजाति है?

क्या इंसान एलियंस की प्रजाति है?

aliens facts, aliens facts evidence, aliens facts and information, aliens facts wikipedia, aliens factorio, aliens fact or fiction, aliens facts movie, aliens facts proof, aliens fact or myth, aliens fact file, aliens fact, aliens fact or fiction article, fact aliens exist, ancient aliens fact or fiction, ancient aliens fact check, ancient aliens fact, aliens real fact, aliens are a fact, are aliens fact or fiction, fact about aliens in hindi, fact about aliens in india, facts aliens don't exist, aliens facts on earth, aliens fun fact, aliens film facts, aliens fast facts, aliens hidden truth, is ancient aliens factual, aliens on the moon fact or fiction, aliens on the moon fact, aliens truth or fiction, aliens truth on earth, aliens and ufos fact or fiction, fact of aliens, aliens facts real, aliens facts that they exist, aliens scientific facts, aliens sightings facts, aliens true facts, aliens the facts, fact that aliens are real, aliens ufo facts, aliens unknown facts, aliens ufo truth, monsters vs aliens facts, aliens weird facts, aliens x factor, aliens x factor audition, aliens x factor names, aliens x factor instagram, x factor aliens uncovered, aliens x factor 6 chair challenge, ancient aliens facts, all about aliens facts, aliens 1986 facts, aliens 10 facts, aliens 2 movie facts

अगर देखा जाए तो इस पृथ्वी ग्रह पर इंसान को छोड़ कर हर एक प्राणी शारीरिक तौर पर काफी ज्यादा विकसित है. हर जानवर के बच्चे जन्म लेते ही कुछ घंटे या फिर कुछ दिन बाद ही चलने-फिरने लगते हैं. लेकिन अगर वही हम इंसानों के शिशु चलने फिरने में महीनों या फिर कुछ साल लग जाते हैं.

ऐसा क्यों है? अगर हम इंसान जानवरों के समय से अगर इस पृथ्वी पर रहते आ रहे हैं. तो हम इस मामले में कैसे उनसे पीछे हो सकते हैं. यह सारी बातें यह दर्शाती हैं कि हम इस पृथ्वी के मूल निवासी नहीं है. बल्कि हमें यहां पर बायोलॉजिकल के माध्यम से किसी उन्नत सभ्यता द्वारा इस पृथ्वी पर विकशित किया गया है.

इंसान का विकास

अगर देखा जाए तो बाकी जानवरों की तुलना में हम इतने विकसित कैसे हो सकते हैं? अगर हम शारीरिक तौर पर उनसे कमजोर हैं. तो बौद्धिक तौर पर उसे इतने मजबूत कैसे हो सकते हैं? वैज्ञानिक अपना कितना भी तर्क इस बारे में दें. लेकिन कुछ ऐसी बातें हैं. जो हमें यह सोचने पर मजबूर कर देती हैं कि हो या ना हो हम इस पृथ्वी के मूल निवासी नहीं है.


क्योंकि इस दुनिया में कोई भी जानवर प्रदूषण नहीं फैलाता, सिवाय इंसान के. तो जाहिर सी बात है जैसे-जैसे हम टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में आगे बढ़ रहे हैं. वैसे-वैसे प्रदूषण भी फैलता जा रहा है. एक समय आएगा जब हम पृथ्वी के वातावरण को पूरी तरह से दूषित कर देंगे. उसके बाद हमारे पास सिर्फ यही चारा रह जाएगा कि हम किसी दूसरे ग्रह पर जाकर निवास करें.


लेकिन अगर होशियार व्यक्ति तो वह यही कहेगा कि जितना विकसित अभी हम इस समय है उतना विकसित स्टेज पर उस ग्रह पर हम निवास ना करें. क्योंकि जो विकास की अवस्था इस समय रहेगी अगर उसी विकास की अवस्था में अगर हम वहां पर निवास करेंगे. तो वहां भी प्रदूषण शुरू हो जाएगा इसलिए वही पुराना चक्र फिर से दोहराना होगा. ताकि इंसान उस ग्रह पर लंबे समय तक निवास कर सकें.


EmoticonEmoticon