Showing posts with label General Knowledge in Hindi. Show all posts
Showing posts with label General Knowledge in Hindi. Show all posts

बीमा (Insurance) क्या है? (फायदे एवं प्रकार)

 बीमा (Insurance) के बारे में पूरी जानकारी.

car insurance, insurance companies, car insurance quotes, auto insurance, car insurance companies, auto insurance companies, auto insurance quotes, homeowners insurance, cheap auto insurance, the general insurance, car insurance quotes online.

जैसा की हम लोग जानते हैं कि बीमा (Insurance) के बारे में अक्सर हम अपने घर में अपने बड़ों से या फिर कुछ दोस्तों के बीच बात करते सुनते हैं। 

काफी लोग के मन में अक्सर यह सवाल होता है। आखिर बीमा (Insurance) होता क्या है? और इससे क्या फायदे हैं? बीमा (Insurance) शब्द हमें हर जगह कहीं ना कहीं वेबसाइट पर या फिर बैंक में जाने पर इसका एडवर्टाइजमेंट हमें दिख जाता है।

अगर आप वाकई इंश्योरेंस के बारे में जानना चाहते हैं कि आखिर इंसुरेंस क्या होता है? और इससे हमें क्या फायदे हैं? तो आज इस वेबसाइट पर आप बीमा (Insurance) के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लेंगे। तो चलिए शुरू करते हैं।

बीमा (Insurance) का मतलब यह होता है कि ऐसी व्यवस्था जिसकी मदद से बीमा कंपनी (Insurance Company) आपके साथ हुए, किसी भी प्रकार का नुकसान की भरपाई जैसे मेडिकल ट्रीटमेंट, एक्सीडेंट या मृत्यु के पश्चात आपके परिवार को रिकवरी यानी मुआवजा देने की गारंटी देती है।

इंश्योरेंस कंपनियां यह मुआवजा काफी जांच पड़ताल के बाद देती हैं। क्योंकि अक्सर कुछ बिजनेसमैन इसका गलत इस्तेमाल करते हैं। इसलिए काफी अच्छे तरीके से जांच पड़ताल करना, इंश्योरेंस कंपनियों के लिए बहुत जरूरी होता है।

बीमा कराने का फ़ायदा (Benefits of Insurance)

देखा जाए तो इंश्योरेंस कंपनी हर किसी की मदद करता है। चाहे वह कितना भी गरीब हो चाहे वह कितना भी धनी हो. और आज के समय में इंश्योरेंस हर एक व्यक्ति के लिए बहुत ही आवश्यक है। क्योंकि समय कभी भी एक दिशा में नहीं चलता। कभी भी किसी के साथ कुछ भी हो सकता है। इसीलिए आपको अपने धन, सामानों आदि कीमती वस्तुओ का इंशुरेंस कराना बहुत जरूरी है। इंसुरेंस हमारी किस तरह से मदद करता है? यह हम आगे जानेंगे।

वैसे देखा जाए तो बीमा कंपनी कई प्रकार के होते हैं। और अलग अलग तरह की बिमा की सेवा प्रदान करते हैं।

बीमा (Insurance) के प्रकार (Types of Insurance)

भिन्न-भिन्न प्रकार के इंसुरेंस या फिर बीमा कराने के अलग अलग फायदे आपको हो सकते हैं। नीचे दिए गए कुछ उपयोगी और महत्वपूर्ण बीमा के बारे में बताएं गया है। जो आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है और आपको इसके बारे में अवश्य जानना चाहिए।

जीवन बीमा योजना (Life Insurance Policy)

सबसे पहले आता है जीवन बीमा योजना, तो चलिए जान लेते हैं। जीवन बीमा योजना क्या है? और यह कैसे काम करता है? और इसके क्या-क्या फायदे हैं?

जीवन बीमा के अंतर्गत कोई भी व्यक्ति जिसने अपना जीवन बीमा करा रखा है। उसकी मृत्यु के पश्चात उसके नॉमिनी को बीमा कंपनी के शर्तों एवं नियमों के अनुसार पैसे दिए जाते हैं। ज्यादातर लोग यह बीमा अपने परिवार के सुरक्षा लिए कराते हैं। 

अगर आप ज्यादातर सफर करते हैं या फिर भीड़भाड़ जगह पर ट्रैवल करते हैं या फिर आपको लगता है कि आपको अपना जीवन बीमा करा लेना चाहिए। तो कृपया आपको अपना जीवन बीमा अवश्य ही करा लेना चाहिए। भगवान ना करे आपके साथ अगर कुछ हो जाता है। उसके बाद आपके परिवार को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। उस कंडीशन में जीवन बीमा कंपनी आपकी काफी सहायता करेगी।

दुर्घटना बीमा योजना (Accident Insurance Scheme/Policy)

इस बीमा के अनुसार अगर आप का किसी कारणवश से दुर्घटना हो जाता है। उस कंडीशन में आपको इसका फायदा मिल सकता है। यह फायदा आपके मेडिकल ट्रीटमेंट में आ रहे भारी खर्चों को काफी हद तक कम कर सकता है। इस पॉलिसी के अंतर्गत अगर किसी व्यक्ति को चोट लग जाता है या फिर वह किसी प्रकार से विकलांग हो जाता है। तो कंपनी की पॉलिसी एवं नियमों के अनुसार उसके हॉस्पिटल का पूरा खर्चा या फिर अगर उसकी मृत्यु हो जाती है। तो उसका मुआवजा उसके परिवार को दी जाती है। 

अगर आप के साथ किसी भी प्रकार की घटना होती है। तो उसका पूरा खर्चा बीमा कंपनी उठाती है। इसीलिए आप कभी भी अपना बीमा कराइए तो उसके पॉलिसी को पूरी तरह से पढ़ लिया करिए। कि मुआवजा के समय बीमा कंपनी आपको कितना पर्सेंट तक का मुआवजा देगी।

वाहन बीमा योजना (Auto Insurance Scheme/Policy)

जैसा कि हम जानते हैं। अक्सर हम television पर या फिर न्यूज़ में देखते रहते हैं कि वाहनों के बारे में इंश्योरेंस यानी वाहन बीमा योजना के जरिये बीमा कराने के लिए काफी बार बार कहा जाता है। और यह काफी जरूरी भी है। अगर आपके पास किसी भी प्रकार का वाहन है। जैसे की कार, मोटरसाइकिल, बस आदि तो आपको अपने उस वाहन का बीमा कराना अत्यंत आवश्यक है। क्योंकि किसी भी प्रकार की दुर्घटना में अगर आपको रिकवरी चाहिए। उस कंडीशन में आपको इस बीमा योजना का लाभ उठा सकते है। कई बार ऐसा भी होता है कि हमारी वाहन चोरी हो जाती है। उस केस में हम इस योजना का फायदा उठा सकते हैं।

घर का बीमा (Home Insurance)

अकसर TV पर इसके बारे में प्रचार तो देखते ही होंगे। जिसमें कहा जाता है कि कृपया अपने घर का बीमा करा लें। इस बीमा के अंतर्गत अगर आपके घर में किसी भी प्रकार का दुर्घटना होता है। या फिर किसी भी प्रकार का तोड़फोड़ से ज्यादा नुकसान हो जाता है। सामान की चोरी हो जाती है। तो ऐसे केस में आप इस बीमा का फायदा उठा सकते हैं। यह बीमा ज्यादातर लोग इस्तेमाल करते हैं और घर का बीमा काफी उपयोगी है। जो हम सभी को अवश्य करानी चाहिए।

यात्रा बीमा (Travel Insurance)

अगर आप अपने परिवार के साथ कहीं भी ट्रैवल करते हैं। तो ऐसे केस में आपको अपने बीमा जरूर करा लेनी चाहिए। यात्रा बीमा के अंतर्गत अगर यात्रा में देरी हो जाने पर या फिर यात्रा के दौरान किसी भी प्रकार का दुर्घटना हो जाता है। तो इंश्योरेंस कंपनियां आपका नुकसान की भरपाई करती है। जैसा की हम लोग जानते हैं। जब भी हम भारतीय रेलवे की वेबसाइट पर टिकट बुक करते हैं। तो उसमें यात्रा बीमा यानी ट्रैवल इंश्योरेंस का भी ऑप्शन दिया होता है।

यह सभी इंसुरेंस कराना बहुत जरूरी है। अगर आप को लगता है कि कुछ चीजों में रिस्क है। तो आपको इन्शुरन्स जरूर करा लेना चाहिए। तो आशा करता हूं। यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। अधिक जानकारी के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में लिखिए और हमें बताइए कि आप की क्या समस्या है और क्या चीजें हैं जो इंश्योरेंस के बारे में आपको समझ में नहीं आ रही हैं। धन्यवाद!

भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) कैसे काम करता है?

भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) के बारे में पूरी जानकरी

india, india map, map of india, map, geography of india, india physical map, india map reading, geography, states of india (location), physiography of india, physical features of india, india physical geography, physical features of india class 9, states and capitals of india in english, india (country), physical geography of india, physical features of india explanation, physical features of india in hindi, indian map

भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy)  कैसे काम करता है? भारतीय अर्थव्यवस्था एशिया की तीसरी एवं क्रय शक्ति क्षमता के आधार पर दुनिया को चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। विनिमय दर के आधार पर भारतीय अर्थव्यवस्था का विश्व में दसवाँ स्थान है।

यहाँ पढ़े: राष्ट्रीय आय क्या है? (National Income)

भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) में समाज की समाजवादी प्रणाली को प्राप्त करने के लिए निजी क्षेत्र के साथ-साथ सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम भी विद्यमान हैं।

भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) की विशेषताएँ

भारतीय अर्थव्यवस्था कैसे काम करता है? भारतीय अर्थव्यवस्था एक निम्न मध्यम आय वाली विकासशील अर्थव्यवस्था है। किन्तु सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में हो रही तेज वृद्धि के चलते यह आगामी कुछ वर्षों में मध्यम आय वाले वर्ग में प्रवेश कर जाएगी।

जरूर पढ़े: विश्व से संबंधित सामान्य ज्ञान - GK Related to the World in Hindi

स्वतन्त्रता-पश्चात् देश की आर्थिक आधारभूत संरचना अधिक सशक्त तथा मजबूत हुई है। मात्रात्मक तथा गुणात्मक दृष्टि से भी देश को अर्थव्यवस्था में काफी सुधार हुआ है।

भारत की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) को हम निम्नलिखित बिन्दुओं से स्पष्ट कर सकते हैं ।

  • कृषि आधारित अर्थव्यवस्था
  • पूंजी निर्माण की निम्न दर
  • जनसंख्या वृद्धि 
  • अल्पविकसित अर्थव्यवस्था
  • बेरोजगारी तथा अर्द्धबेरोजगारी
  • प्रतिव्यक्ति निम्न आय
  • औद्योगिक पिछड़ापन

राष्ट्रीय आय क्या है? (National Income)

राष्ट्रीय आय के बारे में पूरी जानकारी (National Income)

national income, what is national income in hindi, what is national income in economics, national income in hindi, measures of national income and output, concepts of national income, calculation of national income, concept of national income, introduction to national income, gross national income, national income accounting, national income economics, gdp, economics, gross national product, nnp, gnp, ndp, income, domestic income

राष्ट्रीय आय क्या है? राष्ट्रीय आय से आशय किसी देश में एक वर्ष के मध्य में उत्पादित सभी वस्तुओं एवं सेवाओं के बाजार मूल्य के योग से है. जिसमें ह्रास घटाकर व विदेशी लाभ जोड़कर निकाला जाता है।

वर्तमान में भारत सरकार का ‘केन्द्रीय सांख्यिकी संगठन' (CSO) भारत की राष्ट्रीय आय को गणना करता है।

राष्ट्रीय आय के मापन की पद्धति (Method of measurement of national income)

राष्ट्रीय आय साधन लागत पर आकलित निवल राष्ट्रीय उत्पाद है। साइमन कुजनेट्स जो राष्ट्रीय आय लेखांकन (National Income Accounting) के जन्मदाता हैं। इन्होने राष्ट्रीय आय के मापन की तीन पद्धति प्रस्तुत की है , जो निम्नलिखित हैं।

जरूर पढ़े: वैज्ञानिक कारण - सामान्य ज्ञान (GK)

उत्पाद पद्धति (Product method)

कुजनेट्स ने इस विधि को वस्तु सेवा विधि के नाम से परिभाषित किया है। इस पद्धति के अन्तर्गत देश में एक वर्ष में उत्पादित अन्तिम वस्तुओं तथा सेवाओं का शुद्ध मूल्य ज्ञात किया जाता है। तथा उसके योग अन्तिम उपज योग (Final Product Total) कहा जाता है।

यहाँ पढ़े: विश्व से संबंधित सामान्य ज्ञान - GK Related to the World in Hindi

आय पद्धति (Income system)

इस पद्धति के अन्तर्गत राष्ट्रीय आय की गणना के लिए विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत व्यक्तियों तथा व्यावसायिक उपक्रमों की शुद्ध आय का योग प्राप्त किया जाता है। डॉ. बाउले तथा रॉबर्टसन के अनुसार, आय गणना विधि के अन्तर्गत आयकर देने वाले तथा आयकर न देने वाले समस्त व्यक्तियों की आय को जोड़ दिया जाता है।

अवश्य पढ़े: सौरमंडल के बारे में [About Solar System in Hindi]

व्यय पद्धति (Expenditure method)

इस विधि को उपभोग बचत विधि भी कहते हैं। इस विधि के अनुसार कुल आय या तो उपभोग पर व्यय की जाती है। अथवा बचत पर, अत: राष्ट्रीय आय कुल उपभोग तथा कुल बचतों का योग होती है। इस विधि से आय की गणना करने के लिए उपभोक्ताओं की आय तथा उनकी बचत से सम्बन्धित आंकड़ों का उपलब्ध होना आवश्यक होता है।

चूँकि इस प्रकार के सही आंकड़े आसानी से उपलब्ध नहीं हो पाते, अत: इस विधि का प्रयोग सामान्यतकम किया जाता है। भारत जैसे देश में राष्ट्रीय आय की गणना के लिए उत्पादन प्रणाली (Production Method) तथा आय प्रणाली (Income Method) का सम्मिश्रण प्रयोग किया जाता है।

वैज्ञानिक कारण - सामान्य ज्ञान (GK)

वेबसाइट पर वैज्ञानिक कारण के बारे में बात करेंगे. वैज्ञानिक कारण - सामान्य ज्ञान. जनरल नॉलेज. इम्पोर्टेन्ट टॉपिक्स.

वैज्ञानिक कारण - सामान्य ज्ञान (GK)

आज हम इस वेबसाइट पर वैज्ञानिक कारण के बारे में बात करेंगे। जो हमारे डेली लाइफ में घटित होता है। और हामरे सामान्य ज्ञान के लिए काफी जरुरी है। तो चलिए शुरू करते हैं।

सवाल-जवाब (Question and Answer)

हवाई जहाज से यात्रा करते समय पेन से स्याही निकलने लगती है -
- क्योंकि वायुदाब में कमी के कारण।

जब लिफ्ट ऊपर की ओर जाता है, तो आदमी का भार वास्तविक बाहर से अधिक होता है -
- क्योंकि उसकी चाल ऊपर की ओर समरूप होती है।

पृथ्वी पर वायुमंडलीय दाब का कारण है -
- गुरुत्वाकर्षण। 

यहाँ पढ़े: जरूरी (Useful) Information About Computer in Hindi

प्रेशर कुकर में खाना जल्दी पकता है -
- क्योंकि दाब अधिक होने से क्वथनांक बढ़ जाता है।

दलदल में फंसा व्यक्ति को लेट जाने की सलाह दी जाती है -
- क्योंकि क्षेत्रफल अधिक होने पर दाब कम हो जाता है।

बर्फ पानी में तैरती है परंतु अल्कोहल में डूब जाती है -
- क्योंकि बर्फ पानी से हल्की होती है तथा अल्कोहल से भारी। 

यहाँ पढ़े: सौरमंडल के बारे में [About Solar System in Hindi]


शेविंग ब्रश को पानी से निकाले जाने पर इसके बाल आपस में सटे रहते हैं -
- पृष्ठ तनाव के कारण।

वर्षा की बूंदें एवं पारे के बूँद गोलाकार होती हैं -
- पृष्ठ तनाव के कारण।

लालटेन की बत्ती में तेल ऊपर चढ़ता है -
- केशिकत्व के कारण।

ब्लाटिंग पेपर स्याही सोख लेता है -
- केशिकत्व के कारण। 

यहाँ पढ़े: प्रकाश के बारे में (About Light in Hindi)

कपूर के छोटे-छोटे टुकड़े जल की सतह पर नाचते हैं -
- पृष्ठ तनाव के कारण।

पानी कांच को भिगों देता है -
- आसंजक बल के कारण।

प्रतिध्वनि का कारण है -
- ध्वनि का परावर्तन।

बर्फ के दो टुकड़ों को आपस में दबाने पर टुकड़े आपस में चिपक जाते हैं -
- क्योंकि दाब अधिक होने से बर्फ का गलनांक घट जाता है। 

यहाँ पढ़े: 50+ Important Environmental Science Questions with Answers

वायुमंडल में हमारे ऊपर बादलों के तैरने का कारण है -
- उनका कम घनत्व तथा वायु की श्यानता।

तेज हवा वाली रात्रि में ओस नहीं बनती -
- क्योंकि वाष्पीकरण की दर तेज होती है।

तापमापी में पारे का प्रयोग किया जाता है -
- क्योंकि पारा गरम होने पर अधिक फैलता है।

ठंडे प्रदेशों में पारा के स्थान पर अल्कोहल को तापमापी द्रव्य को वरीयता दी जाती है -
- क्योंकि अल्कोहल का द्रव्यमान निम्नतम होता है। 

यहाँ पढ़े: विश्व से संबंधित सामान्य ज्ञान - GK Related to the World in Hindi

कृपया कमेंट करना न भूले

आशा करता हूं यह जानकारी आपके लिए काफी फायदेमंद साबित होगी इसी तरह से हिंदी स्टोरी से जुड़े रहिए और कृपया कमेंट करना नाभूलियेगा.

विश्व से संबंधित सामान्य ज्ञान - GK Related to the World in Hindi

Important Questions and Answers related to the world in Hindi

Important Questions and Answers related to the world in Hindi. Online GK preparation in Hindi, GK preparation tips in Hindi, best site for GK preparation in Hindi, online GK preparation for ssc in Hindi, GK preparation in Hindi, GK exam preparation in Hindi, GK preparation for ssc in Hindi, preparation of GK in Hindi, ssc GK preparation in Hindi.
नमस्कार दोस्तों! आज आप इस वेबसाइट पर कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर पर नजर डालेंगे. जो हमारे कंपटीशन एग्जाम में पूछे जाते हैं. आशा करता हूं. यह वीडियो आपके परीक्षा की तैयारी के लिए मददगार साबित होगी. धन्यवाद!

विश्व से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर





इसे भी पढ़े:

50+ Important Environmental Science Questions with Answers

Important Environmental Science questions with answer for exam preparation in Hindi

Important Environmental Science questions with answer for exam preparation in Hindi. Objective type questions answers environmental science. Environmental science quiz questions and answers. Environmental science multiple choice question papers. Environmental science exam questions answers.
यहां पर्यावरण विज्ञान से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर दिए गए हैं जो आपके कंपटीशन परीक्षाओं के लिए काफी लाभदायक होगा। आशा करता हूं यह जानकारी आपको अच्छी लगेगी।

पर्यावरण विज्ञान से जुड़े प्रश्न और उत्तर

1. पर्यावरण ( Environment) क्या है?— हमारे चारों ओर का वातावरण, जो कि हमें व अन्य जीवधारियों को प्रभावित करता है
2. भारत में सबसे अधिक वन किस प्रदेश में हैं?— मध्य प्रदेश
3. पौधे अपनी खाध निर्माण प्रक्रिया में कार्बन डाइऑक्साइड ( CO2 ) गैस वायुमण्डल से लेते हैं और बदले में जीवधारियों को सांस लेने के लिए मुक्त करते हैं।— ऑक्सीजन
4. कार्बन डाइऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड, कार्बन मोनो ऑक्साइड द्वारा कौनसा प्रदूषण होगा?— वायु प्रदूषण
5. बायोकेमिकल ऑक्सीजन डिमाण्ड परीक्षा किस प्रदूषण को मापने के लिए की जाती है?— जल प्रदूषण
6. परॉक्सीएसेटिल नाइट्रेट (PAN) क्या है?— वायु प्रदूषक
7. राष्ट्रीय पर्यावरण अनुसंधान केन्द्र कहाँ स्थित है?— नागपुर ( महाराष्ट्र )
8. वायुमण्डल में ओजोन परत हमारी रक्षा किन किरणों से करती है?— पराबैंगनी किरणों से
9. वायुमण्डल में कौन-सी गैस सर्वाधिक पायी जाती है?— नाइट्रोजन
10. आकाश नीला किसके कारण दिखाई देता है?— प्रकीर्णन के कारण
11. विश्व पर्यावरण दिवस किस तिथि को मनाया जाता है?— 5 जून
12. ‘ग्रीन हाउस प्रभाव’ के कारण पृथ्वी का तापमान बढ़ता है या घटता है?— बढ़ जाता है
13. ‘पर्यावरण का दुश्मन’ किस वृक्ष को कहा जाता है?— यूकेलिप्टस ( सफेदा )
14. ग्रीन हाउस प्रभाव क्या है?— ग्रीन हाउस प्रभाव में सूर्य की किरणें पृथ्वी पर आ तो जाती है, लेकिन कार्बन डाइऑक्साइड गैस के घेरे के कारण वापस नहीं जा पाती है
15. राष्ट्रीय वन नीति के अनुसार कितने प्रतिशत भू-भाग पर वन होना अनिवार्य है?— 33 प्रतिशत
16. ‘ग्रीन’ पीस क्या है?— पर्यावरण योजना
17. चिपको आन्दोलन के पीछे मुख्य उददेश्य क्या है?— वनों की सुरक्षा
18. भारत सरकार द्वारा केन्द्र में ‘पर्यावरण विभाग’ की स्थापना किस वर्ष की गई?— 1980 में
19. संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम ( UNEP) का मुख्यालय कहाँ है?— नैरोबी ( केन्या )
20. फोटो कॉपी मशीन में कौन-सी गैस उत्पादित होती हैं?— ओजोन
21. विश्व वन्य जीव कोष द्वारा प्रतीक के रूप में किस पशु को लिया गया है?— पांडा
22. भारत का कौनसा राज्य ‘टाइगर राज्य’ के रूप में जाना जाता है?— मध्य प्रदेश
23. वन महोत्सव किसने प्रारम्भ किया था?— के. एम. मुंशी
24. विश्व वन्यजीव संरक्षण कोष कहाँ पर स्थित हैं?— सिवटजरलैण्ड
25. सबसे प्राचीन काल से उगाया जाने वाला फल वृक्ष कौन-सा है?— खजूर
26. सफोकेशन क्या है?— ऑक्सीजन की कमी का जीवों पर प्रभाव
27. जलवायु परिवर्तन में किन गैसों की मुख्य भूमिका होती है?— ग्रीन हाउस गैस
28. सर्वाधिक ओजोन क्षयकारी गैस कौन-सी है?— CFC ( क्लोरोफ्लोरोकार्बन )
29. ‘क्लोरोफ्लोरोकार्बन’ किन गैसों का संयुक्तरूप है?— क्लोरीन, क्लोरीन एवं कार्बन (CFC)
30. भूतल पर CFC का प्रयोग कहां होता है?— स्प्रेकैन डिस्पेन्सर, वातानुकूलकों, रेफ्रिजरेटरों, हेयर स्प्रे, शेविंग क्रीम, विविध सौन्दर्य प्रसाधनों आदि में
31. ग्रीन हाउस प्रभाव का प्रत्यक्ष परिणाम क्या होगा?— ग्लेशियर पिघलने लगेंगे
32. भारत में ‘वृक्षों का आदमी’ किसे कहा जाता हैं?— सुन्दरलाल बहुगुणा
33. सर्वाधिक जैवविविधता कहाँ पायी जाती है?— ट्रॉपिकल रेन फॉरेस्ट
34. बायोटेक्नोलॉजी पार्क कहाँ पर स्थित है?— लखनऊ
35. पृथ्वी दिवस कब मनाया जाता है?— 22 अप्रैल
36. भविष्य का ईंधन किसे कहा जाता है?— हाइड्रोजन
37. पर्यावरण का रक्षा कवच किसे कहा जाता है?— ओजोन परत
38. रेड डाटा बुक का सम्बन्ध किससे हैं?— विलुपित के संकट से ग्रस्त जीवों से
39. विश्व का सबसे प्रदूषित नगर कौन-सा है?— मैकिसको सिटी
40. एन्वायरॉनमेंट एजुकेशन फॉर किडस यूएसए में कहाँ पर स्थित है?— विस्कॉसिन
41. CNG की फुल फार्म क्या है?— कम्प्रेस्ड नेचुरल गैस
42. ध्वनि प्रदूषण कितने डेसीबल से माना जाता है?— 65 डेसीबल
43. जल प्रदूषण को मापने के लिए कौन-सा परीक्षण किया जाता है?— बायोकेमिकल ऑक्सीजन डिमांड
44. ताजमहल के पीले पड़ने तथा उसके क्षरण होने के मुख्य कारण क्या है?— अम्लीय वर्षा
45. मानव द्वारा निर्मित उपग्रह कहाँ स्थापित होते हैं?— ब्राह्म वायुमण्डल में
46. देश का पारिस्थितिकी अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केन्द्र कहां स्थित है?— बंगलौर ( कर्नाटक )
47. भारत का पर्यावरण शिक्षा केन्द्र कहाँ स्थित है?— अहमदाबाद ( गुजरात )
48. इंदिरा गांधी वानिकी अकादमी कहाँ स्थित है?— देहरादून
49. विश्व वानिकी दिवस कब मनाया जाता है?— 21 मार्च
50. भारतीय वन सर्वेक्षण का मुख्यालय कहाँ स्थित है?— देहरादून में
51. भारतीय वन प्रबंध संस्थान कहाँ है?— भोपाल में

प्रकाश के बारे में (About Light in Hindi)

प्रकाश के बारे में पूरी जानकरी [हिंदी में]

Prakash ke baare mein puri jaankari. प्रकाश के बारे में पूरी जानकरी [हिंदी में]. Know here about light in Hindi. Facts about light. Prakash ke baare mein rochak jaankari.
नमस्कार! दोस्तों, आज हम इस वेबसाइट पर प्रकाश के बारे में बात करेंगे। यह सारी बातें जनरल नॉलेज के लिए काफी अच्छा है। अगर आप किसी एग्जाम का प्रिपरेशन कर रहे हैं। तो यह सारी बातें जानना आपके लिए काफी फायदेमंद होगा। तो चलिए शुरू करते हैं।


प्रकाश के बारे में उपयोगी एवं रोचक बातें

  • प्रकाश फोटान नमक छोटे-छोटे कणों से मिलकर बना है।
  • प्रकाश तरंगे अनुप्रस्थ प्रकार की तरंगे है।
  • प्रकाश का तरंग सिद्धांत हाईगेंस के द्वारा प्रतिस्थापित किया गया था।
  • ध्रुवण अर्थात polarization की घटना के कारण प्रकाश तरंगों के अनुप्रस्थ होने की पुष्टि देता है।
  • मैक्सवेल ने प्रकाश विद्युत चुंबकीय स्वरूप की खोज की थी। 
  • ग्रेमॉलडी ने सर्वप्रथम यह दिखलाया की प्रकाश तरंगों में विर्वतन(diffraction) होता है।
  • आइंस्टाइन ने प्रकाश विद्युत प्रभाव का प्रतिपादन किया तथा इसी खोज के कारण उन्हें नोबेल पुरस्कार प्राप्त हुआ था।
  • ध्रुवण अर्थात Polarization की घटना प्रकाश एवं ध्वनि दोनों में घटित नहीं होती है। विर्वतन, परावर्तन एवं अपवर्तन दोनों में ही होता है।
  • किसी अवरोध की कोर से प्रकाश का मुड़ना विर्वतन होता है अर्थात deffraction कहलाता है।
  • व्यतिकरण interference का सिद्धांत प्रकाश की तरंग प्रकृति की पुष्टि करता है।
  • प्रकाश विकिरण (light radiation) की प्रकृति तरंग एवं कण दोनों एक ही प्रकृति के होते है। 
  • प्रकाश का चिकने पृष्ठ से टकराकर वापस लौटना प्रकाश का परावर्तन कहलाता है। 
  • रोमर ने सर्वप्रथम प्रकाश का वेग ज्ञात किया था। 
  • निर्वात में प्रकाश का वेग अधिकतम होता है।
  • जल कांच और हीरे में प्रकाश की चाल का क्रम जल > काँच > हीरा होता है।
  • चंद्रमा से पृथ्वी तक प्रकाश आने में 1 सेकंड का समय लगता है। 
  • सूर्य से पृथ्वी तक प्रकाश आने में 8 मिनट का समय लगता है। 
  • माध्यम में तापमान में वृद्धि के साथ प्रकाश की गति में कोई परिवर्तन नहीं होता है। 
  • सर्वप्रथम न्यूटन ने बताया कि श्वेत प्रकाश सभी रंगों के प्रकाश से मिलकर बना है तथा प्रकाश अत्यंत सूक्ष्म कणों से मिलकर बने हैं तथा सीधी रेखा में गति करते हैं
दोस्तों, आपको यह प्रकाश के बारे में जानकारी कैसी लगी? कृपया नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताइएगा। और किस टॉपिक पर आप इंफॉर्मेशन चाहते हैं। उस टॉपिक का नाम प्लीज कमेंट बॉक्स में बताइए। हम उस टॉपिक पर एक नया आर्टिकल इस वेबसाइट पर जरुर डालेंगे। धन्यवाद!