मानव शरीर के तीन मुख्य अंग हैं—पेट, हृदय और मस्तिष्क।
जिस प्रकार हमारे शरीर में इन तीनों का क्रम नीचे से ऊपर की ओर है, उसी प्रकार क्रमश: इनका महत्व भी कम से अधिक होता चला गया है। तात्पर्य यह है कि मानव शरीर में सबसे कम महत्व पेट का है, उससे अधिक हदय का और सबसे अधिक मस्तिष्क का।

Picture credit: www.rewireme.com


मनुष्य और जानवर में अंतर

पशुओं का पेट और मस्तिष्क समानान्तर रेखा में रहता है, मानव का नहीं. इसी कारण पशुओं को तो अपना पेट
भरने पर सन्तुष्टि हो जाती है, किन्तु मानव की भूख का आशय केवल पेट की भूख से नहीं है।

हृदय और मस्तिष्क

पेट की भूख शान्त हो जाने पर. वह कुछ और भी करना चाहता है और इसीलिए मनुष्य के हृदय और मस्तिष्क ने उसके पेट पर विजय प्राप्त कर ली।