प्रकाश के परावर्तन से क्या अभिप्राय है? (Reflection of light in Hindi)

प्रकाश का परावर्तन क्या है?

प्रकाश के परावर्तन से क्या अभिप्राय है?

प्रकाश का परावर्तन (What is the reflection of light?) Know in Hindi- जब प्रकाश-किरण किसी माध्यम से चलती हुई किसी चमकदार तल पर आपतित होती हैं तो वह तल से टकरा कर उसी माध्यम में वापस लौट आती है। यह प्रकाश का परावर्तन कहलाता है; जैसे-प्रकाश का किसी दर्पण से टकराकर वापिस उसी माध्यम में वापस लौटना।


प्रकाश जिस तल से टकराकर परावर्तित होता है, वह तल परावर्तक तल कहलाता है। तल से टकराने वाली किरण आपतित किरण तथा टकराने के बाद उसी माध्यम में लौटती किरण परावर्तित किरण कहलाती है। तल के जिस बिंदु पर आपतित किरण टकराती है, उस बिंदु पर तल से खींचा गया लंब अभिलंब कहलाता है। 40 आपतित किरणOB परावर्तित किरण तथा ON अभिलंब को प्रदर्शित करती है।

किसी तल से परावर्तित प्रकाश की मात्रा उस तल की प्रकृति पर निर्भर करती है। इसलिए किसी पॉलिश युक्त चिकने पृष्ठ से हो रहे परावर्तन को नियमित परावर्तन कहते हैं तथा इसमें परावर्तित प्रकाश की मात्रा पॉलिशदार तल के अनुसार अधिकतम होती है। किसी खुरदरे पृष्ठ से हो रहे परावर्तन को विसरित या अनियमित परावर्तन कहते हैं।

किसी समतल तल से परावर्तन के दो नियम निम्न प्रकार हैं:

(i) प्रथम नियम- तल के अभिलंब तथा आपतित किरण के बीच का कोण तथा तल के अभिलंब तथा परावर्तित किरण के बीच का कोण बराबर होते हैं, या
आपतन कोण ∠ i = परावर्तन कोण ∠ r

(ii) दूसरा नियम- आपतित किरण, अभिलंब तथा परावर्तित किरण सभी एक ही तल में होते हैं। इस तल को आपतन तल कहते हैं

No comments:

HindiStudy.in वेबसाइट पर आपका स्वागत है. कृपया! कमेंट बॉक्स में गलत शब्दों का उपयोग ना करें. सिर्फ ऊपर पोस्ट से संबंधित प्रश्न या फिर सुझाव को लिखें. धन्यवाद!

Powered by Blogger.