आचार्य चाणक्य द्वारा जीवन के बारे में अनमोल विचार

यह भारतीय परंपरा रही है कि किसी भी शुभ कार्य को प्रारंभ करने  से पहले देवी-देवताओं अथवा प्रभु का स्मरण किया जाए ताकि वह  कार्य बिना किसी व्यवधान के सरलतापूर्वक सम्पन्न हो।

आचार्य चाणक्य द्वारा जीवन के बारे में अनमोल विचार

'चाणक्य नीति' का प्रमुख उद्देश्य यह जानना है कि कौन-सा  काम उचित है और कौन-सा अनुचित। आचार्य चाणक्य ने प्राचीन  भारतीय नीतिशास्त्र में बताए गए नियमों के अनुसार ही इसे लिखा है।  यह पूर्व अनुभवों का सार है। उनका कहना है कि लोग इसे पढ़कर अपने  कर्तव्यों और अकर्तव्यों का भली प्रकार ज्ञान प्राप्त कर सकेंगे  सम-सामयिक राजनीति के ज्ञान में मनुष्य अपनी बुद्धि का पुट देकर  समय के अनुसार अच्छाई और बुराई में भेद कर सकता है। 
chanakya neeti,chanakya niti,chanakya,chanakya neeti in bengali,chanakya niti in hindi,chanakya niti shastra,chanakya niti full in hindi,chanakya niti in bengali,chanakya neeti in hindi,chanakya neeti stories,chanakya niti for students,chanakya neeti for success,neeti,chanakya niti full,chanakya sutra,chanakya teachings,chanakya quotes,chanakya inspirational,chanakya thoughts,chanakya shlok,chanakya serial
Picture credit: www.mid-day.com
सबसे पहले आचार्य चाणक्य ने संग के महत्व पर प्रकाश डालते  हुए यह बताया है कि दुष्ट लोगों के संसर्ग से बुद्धिमान मनुष्य को दुख  उठाना पड़ता है। चाणक्य ने मनुष्य के जीवन में धन के महत्व को  बताया है। उनका कहना है कि व्यक्ति को संकट के समय के लिए धन  का संचय करना चाहिए।

उस धन से अपने बाल-बच्चों तथा स्त्रियों की  रक्षा भी करनी चाहिए। इसके साथ उनका यह भी कहना है कि व्यक्ति  को अपनी रक्षा सर्वोपरि करनी चाहिएजिन लोगों के पास धन है, वे  किसी भी आपत्ति का सामना धन के द्वारा कर सकते हैं, परन्तु उन्हें यह  बात भी भली प्रकार समझ लेनी चाहिए कि लक्ष्मी चंचल है। वह तभी  तक टिक कर रहती है, जब तक उसका सदुपयोग किया जाता है। दुरुपयोग आरंभ करते ही लक्ष्मी चलती बनती है। 

चाणक्य कहते हैं

व्यक्ति को उसी स्थान पर रहना चाहिए जहां उसका सम्मान हो, जहां पर उसके भाई-बन्धु हों, आजीविका के साधन  हों। इसी संबंध में वह आगे कहते हैं कि जहां धनवान, वेद-शास्त्रों को  जानने वाले विद्वान ब्राह्मणराजा अथवा शासन-व्यवस्था, नदी और वैद्य  आदि न हों, वहां भी नहीं रहना चाहिएनौकरों की कार्यकुशलता का पता तभी चलता है, जब उन्हें कोई कार्य करने के लिए दिया जाता है। अपने सम्बंधियों और मित्रों की परीक्षा उस समय होती है, जब स्वयं पर कोई आपत्ति आती है।


गृहस्थ का सबसे बड़ा सहारा उसकी स्त्री होती है. परन्तु स्त्री की वास्तविकता भी उसी समय समझ में आती है, जब व्यक्ति पूरी तरह धनहीन हो जाता है। मनुष्य को चाहिए कि वह अधिक लालच में न पड़ेउसे वही कार्य करना चाहिए जिसके संबंध में उसे पूरा ज्ञान हो।

जिस कार्य के संबंध में उसे ज्ञान न हो, उसे करने से हानि हो सकती है। जिस कार्य का अनुभव न हो, उससे संबंधित निर्णय लेना कठिन होता हैनिर्णय यदि ले लिया जाए, तो संशय की स्थिति मन को डगमगाती रहती है। ऐसा निर्णय कभी भी सही नहीं होता—'संशयात्मा विनयति।' मन यदि संशय में हो तो वह रास्ते से भटकाता ही नहींगहरे और अंधेरे गड्ढे में फेंकता है।

यदि आप ऐसे व्यवसायियों का जीवन देखेंजिन्होंने अपने क्षेत्र में ऊंचाइयों को छूआ है, तो आप पाएंगे कि उन्होंने अपने काम को समझने के लिए किसी दूसरे अनुभवी व्यक्ति के नीचे काम किया है। किताबी और व्यावहारिक जानकारी में जमीन-आसमान का अंतर होता है।

आचार्य चाणक्य द्वारा जीवन के बारे में अनमोल विचार: विवाह के संदर्भ में, चाणक्य ने कुल के भेदभाव की बात नहीं मानी है। उनका कहना है कि नीच कुल में उत्पन्न कन्या भी यदि अच्छे गुणों से युक्त है तो उससे विवाह करने में कोई हानि नहीं। जिन पर विश्वास नहीं करना चाहिए उनके बारे में आचार्य का कथन है कि सिंह और बाघ आदि तेज पंजों वाले जानवरों से दूर रहना चाहिए, ऐसी नदियों के आसपास भी नहीं रहना चाहिए, जिनके किनारे कच्चे हों और जो बरसात आदि के दिनों में लम्बे-चौड़े मैदान में फैल जाती हों। इसी प्रकार लंबे सीगों वाले सांड़ आदि पशुओं से अपना बचाव रखना चाहिए। जिसके पास कोई हथियार है, उसका भी कभी विश्वास नहीं करना चाहिए।

No comments:

HindiStudy.in वेबसाइट पर आपका स्वागत है. कृपया! कमेंट बॉक्स में गलत शब्दों का उपयोग ना करें. सिर्फ ऊपर पोस्ट से संबंधित प्रश्न या फिर सुझाव को लिखें. धन्यवाद!

Powered by Blogger.