जीवधारियों का वर्गीकरण (Classification of living beings) [Hindi]

जीवधारियों का वर्गीकरण जीवधारियों के वर्गीकरण को वैज्ञानिक आधार जॉन रे John Ray) नामक वैज्ञानिक ने प्रदान किया, लेकिन जीवधारियों के आधुनिक वर्गीकरण में सबसे प्रमुख योगदान स्वीडिश वैज्ञानिक कैरोलस लीनियस (1708-1778 ई.) का है ।

यहाँ पढ़े: What is Biology and Botany? जीव विज्ञान और वनस्पति विज्ञान


जीवधारियों का वर्गीकरण (Classification of living beings)

लीनियस ने अपनी पुस्तकों जेनेरा (Plantarum, सिस्टेमा नेचुरी (Systema Genera Naturae) क्लासेस प्लाण्टेरम (Classes Plantarum) एवं फिलासोफिया बॉटेनिका Pilosophia ) में जीवधारियों के वर्गीकरण पर विस्तृत Botanica रूप से प्रकाश डाला।

जरूर पढ़े: पेड़-पौधों के क्षेत्र में सबसे छोटा और बड़ा | सामान्य ज्ञान

इन्होंने अपनी पुस्तक में Systema Naturae सम्पूर्ण जीवधारियों को जगतों Kingdoms)—पादप जगत (Plant दो ( kingdomतथा जन्तु जगत (Animal kingdom) में विभाजित किया इससे जो वर्गीकरण की प्रणाली शुरू हुई उसी से आधुनिक वर्गीकरण प्रणाली की नींव पड़ी, इसलिए कैरोलस लीनियस (Carolusinnaeus) को वर्गिकी का पिता (ather of Taxonomy) कहा जाता है।

परम्परागत द्वि-जगत वर्गीकरण का स्थान अन्ततः आरएच. हटेकर (R. H. Whittaker) द्वारा सन् 1969 ई. में प्रस्तावित 5-जगत प्रणाली ने ले लिया। इसके अनुसार-

समस्त जीवों को निम्नलिखित पाँच जगत (Kingdom) में वर्गीकृत किया गया:-

1. मोनेरा (Monera)
2. प्रोटिस्टा (Protista)
3. पादप (Plantae)
4. कवक (Fung) तथा
5. एनीमेलिया (Animalia)।

कुछ जीवधारियों के वैज्ञानिक नाम:-

1. मनुष्य Homo sapiens
2. मेढ़क Rana tigrina
3. बिल्ली Felis domestica
4. कुत्ता Canis familiaris
5. गाय Bos indicus
6. मक्खी Musca domestica
7. आम Mangifera indica
8. धान Orvza sativa
9 गेहूँ Triticum aestivum
10. मटर Pisum sativum
11. चना Cicer arietinum
12. सरसों Brassica campestris

No comments:

HindiStudy.in वेबसाइट पर आपका स्वागत है. कृपया! कमेंट बॉक्स में गलत शब्दों का उपयोग ना करें. सिर्फ ऊपर पोस्ट से संबंधित प्रश्न या फिर सुझाव को लिखें. धन्यवाद!

Powered by Blogger.