Hindi Story

बहुत समय पहले की बात है, जब गांव बस्ती से दूर पहाड़ मे एक गुरुजी रहते थे | उन्होंने अपनी सारी जिंदगी ज्ञान और ध्यान मे निकाल दी जिस कारण उनके बुद्धिमानीऔर समजदारी के किस्से दूर दूर तक प्रसिद्ध थे,और उनके गांव के साथ साथ पड़ोसी गांव के लोग भी अपनी परेशानिया लेकर उनके पास आते थे |

उनके जवाब हमेशा सही होते थे ,जब गुरुजी किसी भी परेशानी का समाधान बताते थे, तो लोग उनकी बातो को मानकर अपने जीवन मे लागू करते थे, जिससे उनके जीवन मे आनी वाली परेशानियों से उन्हें छुटकारा जाये, जिससे सभी लोग खुश थे |

लेकिन कुछ गांव के लोगो को यह बात पसंद न थी और वह गुरुजी को झूठा साबित करना चाहते थे | उनमे से एक ने जिसका नाम अंकुश था यह योजना बनायीं कि मै गुरुजी के सामने जाकर उनसे पूछूंगा कि मेरी मुट्ठी मे जो पक्षी है वो जिंन्दा या मरा हुआ अगर गुरुजी ने बोला कि ये मरा हुआ है तो मैं इसे छोड़ दूंगा जिससे यह उड़ जाएगा लेकिन गुरुजी ने कहा कि ये पक्षी जिन्दा है तो मैं इसकी गर्दन मोड़ कर वही मार दूंगा जिससे गुरुजी गलत साबित हो जायेंगे | 

अगले दिन सुबह सभी लोग मिलकर एक साथ गुरुजी के पास गए | ठण्ड मे इतनी सुबह अपने पास इतने सारे लोगो को आते देख और अंकुश कि कापती हुई आवाज़ और उसके बात करने के हाव भाव से गुरुजी समज गए कि कुछ गलत है | कुछ ही देर बाद अंकुश ने अपना सवाल पूछा कि मेरे हाथ मे जो पक्षी है वो जिन्दा है या मरा हुआ ? गुरुजी ने जवाब दिया वो तुम्हारे हाथ मे है |

मेरी यह कहानी बताने का एक कि मतलब है कि आपके हाथ मे ही सब कुछ होता है | जो भी हो ,फिर वो अच्छा हो या बुरा उस सब के जिम्मेदार आप ही है | जिस दिन से आप खुद की जिम्मेदारी लेना सीख जायेंगे | 

उस दिन ही आप सफल हो जायेंगे क्योकि जब तक आपको दूसरों मे कमी दिखाई देगी वजाये खुद के तब तक आप अपने जीवन मे आगे नहीं बड़ सकते है | मैनेजमेंट के गुरु कहे जाने वाले मिस्टर पीटर द्रुकेर ने लिखा है कि भविष्य बताने का बहुत अच्छा तरीका है कि आप आप उसे खुद ही बना दें | 

हर कोई अपने जीवन मे खुश,स्वस्थ,समृद्ध ,लोकप्रिय,सफल और जो कुछ भी आप करना चाहते है, सिर्फ एक ही तरीका इन सब को हासिल करने का कि आप अपना भविष्य खुद लिखे | वजाये दूसरों पे निर्भर के होने के क्योकि आप अपने जीवन मे उस समय ज़्यादा कुछ बड़ा नहीं कर सकते जब आप दूसरों पे निर्भर होते है | 

उदाहरण के लिए :- परीक्षा मे प्रश्न के उत्तर पूछने वाला छात्र कभी बताने वाले से ज़्यादा अंक नहीं हासिल कर सकता | आप के लिए एक अच्छी खबर है कि आज आपके सपने पूरे करने के लिए अलग अलग क्षेत्र मे अलग अलग मौक़े आपका इंतज़ार कर रहे जो कि आज से पहले कभी नहीं थे |

Guest post by: Abhishek Mishra
www.computerscienceknowledge.com