Dr. Bhimrao Ambedkar ki Jeevni

डा. भीमराव अम्बेडकर भारत के एक महानतम विधिवेत्ता, विद्वान, राजनीतिज्ञ और बौद्ध पुनरुत्थानवादी थे। वे भारत के संविधान के मुख्य निर्माता थे। उन्होंने भारतीय संविधान के निर्माण में एक महान भूमिका निभाई थी। वे भारत के प्रथम विधि मंत्राी भी थे। डाॅ. अम्बेडकर को भारत में दलितों एवं पिछड़े वर्ग के लोगों का ‘मसीहा’ माना जाता है। पुस्तक इन बातों का रोचक वर्णन है कि कैसे एक निम्न वर्ग और गरीब परिवार का एक औसत बालक सामाजिक भेदभाव के खिलाफ संघर्ष करके दलितों और पिछड़े वर्ग का मसीहा बन गया। पुस्तक उनके व्यक्तित्व और जीवन-चरित्र पर भी पर्याप्त प्रकाश डालती है। हमें आशा है कि पुस्तक पाठकों में उनके प्रति जिज्ञासा और रुचि जागृत करने में सफल होगी।Contents:बचपन एवं प्रारम्भिक शिक्षा; विवाह; उच्च शिक्षा; अस्पृश्यों के नायक; दलितों के हितैषी; पूना पैक्ट; कुछ मुख्य घटनाएँ; आजादी एवं विभाजन; संविधान के निर्माता; सरकार से विवाद; धर्म-परिवर्तन; शांतिपूर्ण मृत्यु; भाषणों के अंश; अनमोल वचन; जीवन एवं कार्य-एक नजर में.

Category:

Description


डा. भीमराव अम्बेडकर भारत के एक महानतम विधिवेत्ता, विद्वान, राजनीतिज्ञ और बौद्ध पुनरुत्थानवादी थे। वे भारत के संविधान के मुख्य निर्माता थे। उन्होंने भारतीय संविधान के निर्माण में एक महान भूमिका निभाई थी। वे भारत के प्रथम विधि मंत्राी भी थे। डाॅ. अम्बेडकर को भारत में दलितों एवं पिछड़े वर्ग के लोगों का ‘मसीहा’ माना जाता है। पुस्तक इन बातों का रोचक वर्णन है कि कैसे एक निम्न वर्ग और गरीब परिवार का एक औसत बालक सामाजिक भेदभाव के खिलाफ संघर्ष करके दलितों और पिछड़े वर्ग का मसीहा बन गया। पुस्तक उनके व्यक्तित्व और जीवन-चरित्र पर भी पर्याप्त प्रकाश डालती है। हमें आशा है कि पुस्तक पाठकों में उनके प्रति जिज्ञासा और रुचि जागृत करने में सफल होगी।Contents:बचपन एवं प्रारम्भिक शिक्षा; विवाह; उच्च शिक्षा; अस्पृश्यों के नायक; दलितों के हितैषी; पूना पैक्ट; कुछ मुख्य घटनाएँ; आजादी एवं विभाजन; संविधान के निर्माता; सरकार से विवाद; धर्म-परिवर्तन; शांतिपूर्ण मृत्यु; भाषणों के अंश; अनमोल वचन; जीवन एवं कार्य-एक नजर में.

Additional information

Author

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Dr. Bhimrao Ambedkar ki Jeevni”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X