Ek Century Kafi Nahin: Meri Kamyabi Ki Kahani

Amazon.in Price: 238.00 (as of 21/01/2020 03:29 PST- Details)

मुमकिन है आपका कोई सरपरस्त न हो। आपका सफर हमेशा चुनौतियों से भरपूर होगा। उतार-चढ़ाव, कामयाबी और नाकामियां आपको मजबूत बनाएंगी। इसलिए अपने दिमाग को साधें और अपना नायक खुद बनें।सौरव गांगुली का जीवन उतार-चढ़ावों से भरपूर रहा है। भारत के महानतम क्रिकेट कैप्टन माने जाने वाले गांगुली ने टीम को आत्मविश्वास से भरा, उन्हें ऊर्जा दी और विदेशों में भारत को पहली बार एक के बाद एक शानदार जीतें दिलाईं।लेकिन गांगुली की कहानी महान चुनौतियों की कहानी भी है – अपने शुरुआती दिनों में टीम में जगह पाने के लिए चार साल के लंबे इंतज़ार से लेकर ऑस्ट्रेलियाई कोच ग्रेग चैपल से संघर्ष तक। उन्होंने हर कदम के लिए संघर्ष किया और हर हार के बाद फिर से शिखर पर पहुंचे।अपनी ज़िंदगी की कहानी सुनाते हुए सौरव बता रहे हैं कि उन्होंने अपनी चुनौतियों का सामना कैसे किया और कैसे एक विजेता बने। बार बार। हर बार।ईमानदार, बेबाक और भावनाओं से भरपूर एक सेंचुरी भी काफी नहीं ज़िंदगी और खेल का एक मनमोहक जायज़ा है।

Category:

Description

About the Author

सौरव गांगुली एक पूर्व भारतीय क्रिकेटर और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान हैं। 2002 में विज़्डन क्रिकेट अल्मनैक ने उन्हें एकदिवसीय क्रिकेट का छठा सबसे महान सर्वकालिक बल्लेबाज घोषित किया। वे उन तीन भारतीय खिलाड़ियों में से एक हैं, जिन्होंने 100 से ज्यादा टेस्ट और 300 से ज्यादा एकदिवसीय खेले हैं। सौरव गांगुली फिलहाल क्रिकेट असोसिएशन ऑफ बंगाल के अध्यक्ष हैं। पद्मश्री विजेता सौरव को 2013 में बंग बिभूषण से नवाजा गया। यह उनकी पहली किताब है।

मुमकिन है आपका कोई सरपरस्त न हो। आपका सफर हमेशा चुनौतियों से भरपूर होगा। उतार-चढ़ाव, कामयाबी और नाकामियां आपको मजबूत बनाएंगी। इसलिए अपने दिमाग को साधें और अपना नायक खुद बनें।सौरव गांगुली का जीवन उतार-चढ़ावों से भरपूर रहा है। भारत के महानतम क्रिकेट कैप्टन माने जाने वाले गांगुली ने टीम को आत्मविश्वास से भरा, उन्हें ऊर्जा दी और विदेशों में भारत को पहली बार एक के बाद एक शानदार जीतें दिलाईं।लेकिन गांगुली की कहानी महान चुनौतियों की कहानी भी है – अपने शुरुआती दिनों में टीम में जगह पाने के लिए चार साल के लंबे इंतज़ार से लेकर ऑस्ट्रेलियाई कोच ग्रेग चैपल से संघर्ष तक। उन्होंने हर कदम के लिए संघर्ष किया और हर हार के बाद फिर से शिखर पर पहुंचे।अपनी ज़िंदगी की कहानी सुनाते हुए सौरव बता रहे हैं कि उन्होंने अपनी चुनौतियों का सामना कैसे किया और कैसे एक विजेता बने। बार बार। हर बार।ईमानदार, बेबाक और भावनाओं से भरपूर एक सेंचुरी भी काफी नहीं ज़िंदगी और खेल का एक मनमोहक जायज़ा है।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Ek Century Kafi Nahin: Meri Kamyabi Ki Kahani”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X