Meri Priya Kahaniyaan

Description

यशपाल की गणना हिन्दी साहित्य के निर्मात्ताओं में की जाती है । एक विचारधारा से जुड़े होने पर भी उनकी कहानियों और उपन्यासंजिंनकी संख्या काफी है-वहुत लोकप्रिय हुए और उन्होंने अपने ढंग से साहित्य को गहराई से प्रभावित क्रिया । प्रस्तुत संकलन में उन्होंने स्वयं अपने अनेक कहानी संग्रहों में से चुनकर श्रेष्ठ कहानियाँ दी हैं तथा भूमिका में अपने लेखन तथा विचारों पर प्रकाश डाला है ।

Additional information

Author

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Meri Priya Kahaniyaan”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X